मंगलवार, 17 अक्तूबर 2017

What is the role of Pro and Pre-biotics in pur diet ,if any ,do we need them?(Hindi )

Do I need to include probiotics and prebiotics in my diet?


You don't necessarily need probiotics — a type of "good" bacteria — to be healthy. However, these microorganisms might help with digestion and offer protection from harmful bacteria, just as the existing "good" bacteria in your body already do.
Prebiotics are nondigestible carbohydrates that act as food for probiotics. When probiotics and prebiotics are combined, they interact beneficially (symbiotic relationship). Fermented dairy products, such as yogurt and kefir, are considered synbiotic because they contain live bacteria and the fuel they need to thrive.
Probiotics are in foods such as yogurt and sauerkraut; prebiotics are in whole grains, bananas, onions, garlic, soybeans and artichokes. In addition, probiotics and prebiotics are added to some foods and available as dietary supplements.
Although more research is needed, there's evidence that probiotics might help:

  • Treat diarrhea, especially after taking certain antibiotics
  • Treat irritable bowel syndrome
  • Speed treatment of certain intestinal infections
  • Prevent or reduce the severity of colds and flu
  • Ease allergic disorders such as eczema and hay fever
Probiotics and prebiotics are also being studied for effectiveness and safety in other diseases, such as diabetes, cancer and heart disease.
Side effects are rare, and most healthy adults can safely add foods that contain prebiotics and probiotics to their diets. If you're considering taking supplements, check with your doctor to be sure they're right for you.
Reference :https://www.blogger.com/blogger.g?blogID=232721397822804248#editor/target=post;postID=6046058053860176349https://www.blogger.com/blogger.g?blo

क्या हैं जैविक पक्षीय जीवाणु मित्र 'प्रोबाइाटिक्स 'एवं पूर्व -जैविक (प्री -बाइ -आ-टिक्स ),खुराक में इनका होना ज़रूरी या गैर -ज़रूरी ?

क्या हैं जैविक -पक्षीय जीवाणु -मित्र 'प्रोबाइाटिक्स 'एवं पूर्व -जैविक (प्री -बाइ -आ-टिक्स 

),खुराक में इनका होना ज़रूरी या गैर -ज़रूरी ?


सीधा -सच्चा -सादा  उत्तर है इस प्रश्न का -

भले ये सेहत -सहाय जीवाणु हों किन्हीं अर्थों में लेकिन ज़रूरी नहीं है इनका हमारी खुराक में जगह बनाये रहना। आजकल खासी सुगबुगाहट है इन्हें लेकर दवा निगमों और सम्पूरक निर्माता निगमों में। बीच में अमरीकी खाद्य एवं दवा संस्था एफडीए भी कूदती दिखी है। मामला व्यावसायिक हितों के संरक्षण का ज्यादा दिखता है बहरसूरत इस मामले में हम निर्णायक की भूमिका में नहीं आ सकते। 

दीगर है ये सूक्ष्म -जीव (सूक्ष्म -जैवावयिक संगठन )या ऑर्गेनिज़्म पाचन को कुछ मामलों यथा कब्ज़ियत (कॉन्स्टिपेशन )में टेका लगाए दिख सकतीं हों। कुछ हानिकारक जीवाणुओं के खिलाफ एक कवच बनतीं होवें। आखिर दोनों किस्म के जीवाणुओं का डेरा रहता है  हमारे शरीर में। इनमें से मित्र -जीवाणु पहले ही यह भूमिका अदा कर रहें हैं। 

पूर्व -जैविक या प्री -बाइआटिक्स वास्तव में अपाच्य कार्बोहाइड्रेट होते हैं। यह प्रो -बाइाटिक्स की  खुराक बनते हैं। दोनों में एक प्रकार का सहजीवन परस्पर संवर्धन पोषण देखा जाता है एक प्रकार का लिविंग -इन -रिलेशन कह सकते हैं आप इसको। 

किण्वित खाद्य सामिग्री खासकर दुग्ध उत्पाद (डैरी -प्रॉडक्ट )दही (मिष्ठी  दही या योगर्ट ),'केफिर' (कम चिकनाई वाला  रशियन दही ),इनके घाल -मेल वाले उदाहरण कहे जा सकते हैं। यानी प्रो- ,और प्री - ,दोनों के यौगिकों का यहां संग -साथ रहता है जिसे पोषण विज्ञानियों ने एक नया नाम दिया है -सिंबॉयटिक (Synbiotic ).इन खाद्यों में लाइव बैक्टीरिआ और उनका ईंधन (फ़ूड )मौजूद रहता है।  

प्रो -बाइटिक्स के स्रोत के रूप में दही और sauerkraut(सौएर्क्रौट ,जेरुसलम आर्टिचोक या हाथीचाक )का नाम लिया जा सकता है मोटे अनाज ,केला ,लहसुन -प्याज ,सोयाबीन और एंटिचोक्स जैसे खाद्यों को प्री-बाइ -आ - टिक्स में रखा जाएगा। 
ये दोनों ही खुराकी सम्पूरकों(डाइअट्री -सप्लीमेंट्स ) में भी आपको मिलेंगे। 


देखें सेतु :

Kefir is a fermented milk product similar to yogurt, which originated in Russia. This tangy, creamy milk product is sometimes referred to as the “champagne of milk” because of its fizzy effervescence. The natural carbonation gives kefir a light, foamy, creamy texture, even when made with low-fat milk. 

बेशक शोध की खिड़की से  जैविक -पक्षीय उल्लेखित मामलों में लाभदायक प्रतीत हुए हैं ,फिर भी अभी और अन्वेषण के बाद ही कुछ पुख्ता तौर पर कहा जा सकेगा। 

(१ )प्रतिजैविक (antibiotics )या जीवाणुनाशक दवाओं के पार्श्व प्रभाव के रूप में कुछ लोगों को होने वाले  अतिसार (पानी सा पतला दस्त बिना लक्षणों का )के मामले में प्रो -बाइआटिक्स उपयोगी मालूम पड़ते हैं। 

(२ )इर्रिटेबिल बाउल सिंड्रोम के लक्षणों में राहत मिलती देखी  गई है। 

(३ )आंत्र -संक्रमणों के कुछ  मामलो  में स्वास्थ्य लाभ में तेज़ी आ सकती है इनके स्तेमाल से। 

(४ )बारहा होने वाला सर्दी जुकाम एवं फ्ल्यू के मामलों की बारम्बारता (बारहमासा पसराव में राहत  )में कमी। 

(५ )एलर्जी से पैदा चमड़ी के विकार कमतर रह सकते हैं। 

कुछ अन्य जीवन शैली रोगों में इनकी (दोनों प्रो और प्री -बाइआटिक्स की )कारगरता और निरापदता की पड़ताल की जा रही है इन रोगों में मधुमेह (डायबिटीज़ ),कैंसर और हृद -रोगों  का नाम लिया जा सकता है। 
अ -वांच्छित या नया प्रभाव इन दोनों के ही तन्दुरस्त लोगों में दिखलाई नहीं दिए हैं अलबत्ता खाद्य या खुराकी सम्पूर्ण लेने से पहले आप अपने पारिवारिक चिकित्सक ,केयर -टेकर से ज़रूर पूँछें। 

सन्दर्भ -सामिग्री :

(१ )Reference :https://www.blogger.com/blogger.g?blogID=232721397822804248#editor/target=post;postID=6046058053860176349https://www.blogger.com/blogger.g?blo

अंग्रेजी भाषा में सहज महसूस करने वालों के लिए मूल पाठ आंग्ल भाषा में भी दिया जा रहा है ,कृपया पढ़ें :


Do I need to include probiotics and prebiotics in my diet?


You don't necessarily need probiotics — a type of "good" bacteria — to be healthy. However, these microorganisms might help with digestion and offer protection from harmful bacteria, just as the existing "good" bacteria in your body already do.
Prebiotics are nondigestible carbohydrates that act as food for probiotics. When probiotics and prebiotics are combined, they interact beneficially (symbiotic relationship). Fermented dairy products, such as yogurt and kefir, are considered synbiotic because they contain live bacteria and the fuel they need to thrive.
Probiotics are in foods such as yogurt and sauerkraut; prebiotics are in whole grains, bananas, onions, garlic, soybeans and artichokes. In addition, probiotics and prebiotics are added to some foods and available as dietary supplements.
Although more research is needed, there's evidence that probiotics might help:

  • Treat diarrhea, especially after taking certain antibiotics
  • Treat irritable bowel syndrome
  • Speed treatment of certain intestinal infections
  • Prevent or reduce the severity of colds and flu
  • Ease allergic disorders such as eczema and hay fever
Probiotics and prebiotics are also being studied for effectiveness and safety in other diseases, such as diabetes, cancer and heart disease.
Side effects are rare, and most healthy adults can safely add foods that contain prebiotics and probiotics to their diets. If you're considering taking supplements, check with your doctor to be sure they're right for you.
Reference :

(१ )https://www.blogger.com/blogger.g?blogID=232721397822804248#editor/target=post;postID=6046058053860176349https://www.blogger.com/blogger.g?blo

(२ )ttps://www.google.com/search?q=artichokes+fruit+in+hindi&rlz=1CAACAP_enUS646US647&oq=antichokes+hindi+&aqs=chrome.2.69i57j0l


Image result for artichokes fruit in hindi
Image result for artichokes fruit in hindi
Image result for artichokes fruit in hindi
Image result for artichokes fruit in hindi
Image result for artichokes fruit in hindi
Image result for artichokes fruit in hindi

What is the role of Pro and Pre -Biotics in our diet if any ,do we relly need them ?

Do I need to include probiotics and prebiotics in my diet?


You don't necessarily need probiotics — a type of "good" bacteria — to be healthy. However, these microorganisms might help with digestion and offer protection from harmful bacteria, just as the existing "good" bacteria in your body already do.
Prebiotics are nondigestible carbohydrates that act as food for probiotics. When probiotics and prebiotics are combined, they interact beneficially (symbiotic relationship). Fermented dairy products, such as yogurt and kefir, are considered synbiotic because they contain live bacteria and the fuel they need to thrive.
Probiotics are in foods such as yogurt and sauerkraut; prebiotics are in whole grains, bananas, onions, garlic, soybeans and artichokes. In addition, probiotics and prebiotics are added to some foods and available as dietary supplements.
Although more research is needed, there's evidence that probiotics might help:

  • Treat diarrhea, especially after taking certain antibiotics
  • Treat irritable bowel syndrome
  • Speed treatment of certain intestinal infections
  • Prevent or reduce the severity of colds and flu
  • Ease allergic disorders such as eczema and hay fever
Probiotics and prebiotics are also being studied for effectiveness and safety in other diseases, such as diabetes, cancer and heart disease.
Side effects are rare, and most healthy adults can safely add foods that contain prebiotics and probiotics to their diets. If you're considering taking supplements, check with your doctor to be sure they're right for you.
Reference :https://www.blogger.com/blogger.g?blogID=232721397822804248#editor/target=post;postID=6046058053860176349https://www.blogger.com/blogger.g?blo

Probiotics :Yes Or No


What are probiotics?

Probiotics are good bacteria that are either the same as or very similar to the bacteria that are already in your body. Your lower digestive tract alone teems with a complex and diverse community of these bacteria. In fact, there are a greater number of bacteria in your intestines than there are cells in your body.
But not all of the bacteria in your body are good for you. Some research suggests that having too many of the "bad" and not enough of the "good" bacteria — caused in part by an unhealthy diet — can wreak all sorts of havoc on your body’s systems. This imbalance can lead to weight gain, skin conditions, constipation or diarrhea, and various chronic health conditions.

What are the dietary sources of probiotics?

Probiotics can be found in:
  • Some yogurts
  • Some cheeses
  • Other dairy products that contain probiotics, such as Lactobacillus milk or kefir
  • Sauerkraut
  • Kimchi

Should I consider taking a probiotic dietary supplement?

A probiotic dietary supplement can aid your health in a variety of ways. Lactobacillus species, Bifidobacteria, Saccharomyces boulardii and Bacillus coagulans are the most common beneficial bacteria used in probiotic dietary supplement products. But each type — and each strain of each type — can work in different ways. Bottom line: Not all probiotics are the same, nor do they all have the same effect in the body.

How can a probiotic dietary supplement affect my health?

The right type and amount of a probiotic can help you in several ways:
  • Promotes a healthy immune system*
  • Supports a weight management program*
  • Prevents occasional diarrhea or constipation.*

What amount of a probiotic dietary supplement should I take?

Consuming yogurt products with probiotic content is a good option if you want to get more probiotics in your diet. When you choose a yogurt, look for the seal "Live and Active Cultures" on the product label. This indicates that the yogurt has at least 100 million active cultures per gram of yogurt. For other types of probiotic products, how much you should take varies by bacteria type and the reason you're taking the product. If you choose to take an encapsulated probiotic supplement, a good place to start is with a combination that contains strains from the Lactobacillus family and Bifidobacterium family, because these strains are normally found in the human gastrointestinal tract.

Are there any side effects from taking a probiotic dietary supplement?

Probiotics are safe in the amounts you normally find in food. In general, most healthy adults can safely add foods or dietary supplements that contain probiotics to their diets. Some individuals might experience gas (flatulence), but that generally passes after a few days. But which strains of bacteria are most helpful or which doses are best isn't always known. And if you are lactose intolerant, you can experience stomach discomfort if you try to get your probiotics from dairy products. In that case, consider using a dairy-free probiotic.

Is it safe to take a probiotic dietary supplement with other medications?

Take a probiotic dietary supplement with caution if you:
  • Are taking an antibiotic or prescription drug that affects your immune system
  • Are being treated for a fungal infection
  • Have pancreatitis
Taking a probiotic dietary supplement may not be safe if you:
  • Get infections often
  • Have a weakened immune system
  • Are allergic or sensitive to the sources of the probiotics (dairy, for example)
If you are considering taking a probiotic dietary supplement, check with your health care professional first, especially if you are pregnant or have a health condition.
*These statements have not been evaluated by the Food and Drug Administration. This product is not intended to diagnose, treat, cure or prevent any disease.
Reference:
https://www.mayoclinic.org/what-are-probiotics/art-20232589?pg=2

विपरीत परिस्थितियों में प्रसन्न रहना विहँसना कोई राम से सीखें

विपरीत  परिस्थितियों में प्रसन्न रहना विहँसना कोई राम से सीखें 

सदा मिलके सब -जन राम नाम गाइये ,

लेकिन पहले ज़रा मुस्कुराइए। 

रघुपति राघव राजाराम ,पतितपावन सीता राम ,

जय  रघुनन्दन जयसियाराम, जानकी वल्ल्भ सीता राम। 

वैसे मुस्कुराना आजकल संदेह का विषय बन गया है खासकर बाबाओं के लिए ,इसलिए सावधानी रखिये। 

  भगवान् जी को ,राम को हृदय में रखते हुए मुस्कुराइए। भगवान् को हृदय में रखिये। 

तीन दिन बीत गए समुन्द्र मार्ग  नहीं देता। 

विनय न माने जड़धि - जल,  गए तीन दिन दिन बीति ,

बोले राम सकोप  तब, भय बिनु होइ न  प्रीत । 

https://www.youtube.com/watch?v=2-A1TSF1w_k

कभी -कभी बच्चों को भय दिखाना पड़ता है जिसके पीछे प्रेम होता है। 
उल्लेखित  पंक्ति तुलसी की नहीं है पात्र की हैं समुन्दर की है जो रावण का मित्र था -राम के ये वचन सुनकर समुन्द्र ने ये वचन बोले :

ढोल गंवार शूद्र पशु नारि ,सकल ताड़ना  के अधिकारी।

बहुत ज्यादती हुई है तुलसी के साथ इन पंक्तियों का अर्थ निकालने वालों से।  

यहां गंवार का मतलब फूहड़ नहीं है गाँव का रहने वाला है।जैसे नागर या शहरी का मतलब शहर का रहने वाला है। 

 शूद्र का मतलब छोटी जाति  से नहीं है जो सेवा करता है वह उस समय शूद्र है ,ब्राह्मण जिस समय ब्रह्मज्ञान देने की  सेवा कर रहा है  वह भी  शूद्र है। क्लास में शिक्षक शूद्र है ,.... 

तुलसी किसी की आलोचना नहीं करते -'सकल ताड़ना' का अर्थ वह नहीं है जो कथित विज्ञ- लोगों ने अब तक लगाया है। नारी की देहयष्टि पुरुष से भिन्न है अगर दोनों ,चोरों -लुटेरों  के हाथ पड़ जाएँ तो नारी शरीर को नुक्सान ज्यादा पहुंचेगा ,तुलसी की यहां यही चिंता है। इन्हें संभाल के दबाके रखने की जरूरत है। 

परिवार के जीवन में केंद्र में प्रेम रखिये ,हनुमान जी को रखिये ,परिवार एक प्लेटफॉर्म नहीं है ,खाया -पीया खिसक लिए। (भटकी हुई युवा भीड़ क्या ऐसा नहीं करती है ?). 

'सीता के वनवास में भी एक सीख है ,
घर में तीन -तीन सास हों तो जंगल ही ठीक है। '-ये गढ़ी हुई टकसाली परिभाषा नहीं है परिवार की इसलिए घर के केंद्र में हनुमान को रखिये।अधुनातन व्याख्याएं न करें सनातन ज्ञान की।  

https://www.youtube.com/watch?v=8DHCiEPNBK4 




सोमवार, 16 अक्तूबर 2017

जिस समय आप मुस्कुराते हैं भगवान आपकी ओर मुड़कर चलने लगतें हैं। अभिमान टकराता है घर टूट जातें हैं ,राम दोनों भाइयों के बीच की कड़ी बनते हैं

जो भी जीवन में आ रहा है घटित है उसका विधान मानकर स्वीकार कर लेना चाहिए। उसका विधान ही ऐसा है निर्मम निरपेक्ष  जिससे स्वयं भगवान् के पिता दशरथ भी नहीं बचते और रामवियोग में  पृथ्वी पर मछली की तरह तड़प- तड़प कर प्राण त्याग देते हैं। फिर यदि हमारी संतानें भी हमें दुःख देतीं हैं तो इसमें आश्चर्य क्या। विडंबना कैसी ?

इस संसार में भरत का जन्म नहीं हुआ होता तो  धर्म की ध्वज धर्म का धुरा कौन उठाता ?भरत पर संदेह करते हैं लक्ष्मण उन्हें दल-बल के साथ वन की और निकट आते देखकर।


हमारे घर के बड़ों का काम है छोटों के मतभेद सुलझाएं अव्वल तो उन्हें पनपने ही नहीं दें ,आशंकाएं दूर करें एक दूसरे के विषय में। मतभेदों को बढ़ने न दें।

राम दिल की जुबां से बोलते हैं

'न आँखों से आंसू यूं छलकाइये ,

दिल की जुबां से ही समझाइये ,

मुस्कुराइए जी ज़रा ,मुस्कुराइए।'  

मुस्काना सुख और दुःख को जोड़ने की एक कड़ी बन जाती है 

मुस्कान एक सेतु है। 

सुख दुःख की हरेक घड़ी  की ये औषधि बड़ी है ......  

भरत प्रेम का प्रतीक हैं ,प्रेम अमृत है ,विरह मन्दराचल परबत है ,भरत जी गहरे समुन्द्र हैं।भरत वह व्यक्ति हैं जिन्होनें अपना उपयोग होने दिया ,आज समाज में ऐसे लोग बिरले ही हैं जो औरों के लिए अपना सब कुछ न्योंछावर कर देते हैं औरों के लिए जीते हैं।  
जिस समय आप मुस्कुराते हैं भगवान आपकी ओर मुड़कर  चलने लगतें हैं। 
अभिमान टकराता है घर टूट जातें हैं ,राम दोनों भाइयों के बीच की कड़ी बनते हैं।  

https://www.youtube.com/watch?v=gkadPvQstB0

राम भगवान् हैं ,सीता जी भक्ति हैं ,भक्त हनुमान हैं। सीताजी शान्ति का भी प्रतीक हैं। रावण शान्ति भंग करता है।

शिखर से शून्य तक की यात्रा 

मरणासन्न रावण लक्ष्मण  के प्रश्नों का उत्तर देते हुए  सीख देता है :

(१)इच्छाओं की पूर्ती से इच्छाओं का अंत नहीं होता ,इच्छाएं और बढ़ जाती हैं ,इच्छाओं का रूपांतरण करना पड़ता है मैं यहीं चूक गया। 

(२)शुभ काम के करने में कभी देरी नहीं करनी चाहिए और अशुभ के करने में जल्दी। 

(३ )अपने शत्रु की क्षमताओं को कभी भी अपने से कम आंक के नहीं देखना ये मेरी तीसरी भूल थी मैं इसी गुमान में रहा एक वनवासी वानर ,एक मनुष्य मेरा क्या मुकाबला करेगा। यह रावण की लक्ष्मण  को तीसरी सीख थी। 

(४ )कभी अपने जीवन की गुप्त बातों को किसी के सामने प्रकट न करना मैंने एक बार यह गलती की थी विभीषण को अपनी मृत्यु का राज बतला दिया था ,जिसका खामियाज़ा अब मैं भुगत रहा हूँ। 

'हम काहू के मरहि न मारे ,
वानर मनुज जाति दुइ मारे। '-यही वर माँगा था रावण ने शिवजी से ,ब्रह्मा जी से ,रावण तप और तपस्या दोनों के फलितार्थ का दुरूपयोग करता है। 
रावण नीति थी संस्कृति को नष्ट करना सरस्वती को हासिल करके। मेधा के दुरुपयोग  की शुरुआत ही रावण नीति थी।हमारे लेफ्टिए इसका साक्षात प्रमाण हैं।  

रावण ने  पहले तप करके अनेक वरदान अर्जित किये ,फिर उनका गलत प्रयोग करके शाप कमाए। 

जो खुद रोये और दूसरों को भी रुलाये वही रावण है। 'राव' से रावण। 

जो अपनी पुत्र -वधु को न  छोड़े उसका नाम रावण है। 

नल कुबेर का शाप था जिसकी वजह से  रावण ने  सीता के अपहरण  के बाद उनका स्पर्श नहीं किया।पर नारी का उसकी  सहमति के बिना उसका मस्तिष्क सौ टुकड़ा हो जाता।  
जो अपनी बहन को विधवा बना दे उसका नाम रावण है। 

महत्वकांक्षी रावण का कोई सम्बन्धी नहीं होता। बस एक महत्वकाँक्षा की आपूर्ति ही उसका लक्ष्य होता है। रिश्ते उसके लिए बोझ थे जिनका उसने बहुत दुरूपयोग किया।यहां तक की पार्वती को हासिल करने की उसने कुचेष्टा की।  
सेटिंग और दलाली ही रावण वृत्ति है रावण की सौगातें हैं। संतानें हैं। बलवान दिखे तो उससे माफ़ी मांग लो कमज़ोर दिखे तो उसे जीत लो। यही रावण वृत्ति थी।बाली उसे छ:  तक अपनी कांख में दबाये रहा। उससे माफ़ी मांग बाहर आकर डींग हांकने लगा।  
दो कुंठाएं भी थीं रावण की -कोई भी सुन्दर स्त्री उस पर मोहित नहीं होती थी। बस वह उठाकर ज़रूर ले आता था सौंदर्य को। दस सिर वाला काला-कलूटा रावण - सौंदर्य उसका क्या करे। 
रावण भीड़ का नेता था। भगवान्  समूह बनाते हैं। भीड़ के कोई सिद्धांत नहीं होते ,भीड़ का कोई चेहरा भी नहीं होता। राम समूह बनाते हैं वह भी स्थानीय तौर पर उपलब्ध मानव संशाधनों का। 

मानस की यह सीख है :प्रकृति और परमात्मा का कभी अपमान नहीं करना ,हम आज अशांत इसीलिए हैं भगवान् की जो प्रकृति अभिव्यक्ति है,भगवान् की जो शक्ल है  उसी प्रकृति  के साथ हम खिलावड़ कर रहें हैं। कहीं पेड़ काट रहें  हैं कहीं खदानों को डाइनेमाइट लगाकर उड़ाते हैं।

राम भगवान् हैं ,सीता जी भक्ति हैं ,भक्त हनुमान हैं। 

सीताजी शान्ति का भी प्रतीक हैं। 
रावण शान्ति भंग करता है। 
राम संस्कृति की रक्षा के लिए आये थे एक सीता को रावण से मुक्त कराने के माध्यम से वह सारे संसार की  पीड़ित महिलाओं के अनुरक्षण के लिए आये थे -जब -जब भी किसी महिला का अपहरण होगा राम आयेंगे।
आज जहां -जहां वैष्णव तरीके से जीने वाले पति -पत्नी में तनाव है ,वहां उसकी वजहें आपसी समझ का अभाव है क्योंकि पढ़े लिखे लोगों के बीच में विमत का रहना लाज़िमी है और इसमें बुरा भी कुछ नहीं है ,अब परिवार चलेगा तो समझ से ही चलेगा। एक दूसरे की कमज़ोरियों के प्रति सहनशील होने से ही चलेगा। आज विवाह दो पॅकेजिज़ दो बैलेंसशीट्स के बीच गिरह गांठ है। विवाहेतर संबंध भी सामने आ रहे हैं दोनों के ,पति के भी पत्नी के भी। अरूप रावण दोनों में विद्यमान है। 

हालांकि घर में पैसा इफरात से है लेकिन सुख शान्ति नहीं है। समाधान क्या है ?

समाधान :अन्न का नियंत्रण अन्नपूर्णा को अपने हाथ में लेना पड़ेगा। खाना अपने हाथ का बनाके खिलाना पड़ेगा पति को। मन में प्रेम भाव रखते हुए पकाना पड़ेगा। इस अन्न से ही एक प्रेम संसिक्त मन बनेगा। 
रावण ने घरों के अन्न पर भी प्रहार किया है (प्रहार किया था )-खाना तो घर का बना खाइये भले आप के पास प्रतिमाह लाखों के पैकिज़िज़ हैं। 

हनुमान (भक्ति )यदि आपके हृदय में है तो आप अंदर के अरूप रावण से जीत जायेंगे,यकीन मानिये। 
जीवन प्रबंधन की दीक्षा है रामचरित मानस में ,हनुमान चालीसा में जिसका पाठ तीन से पांच मिनिट में संपन्न हो जाता है। हनुमान समस्याओं के समाधान के हनू -मान हैं। असंभव को सम्भव बनाते हैं हनुमान। हनुमान चालीसा के तीरों से मारा जाएगा अरूप रावण। 
जीवन एक नियम का नाम है परिवार के नियम ,समाज के नियम ,जो इन नियमों को तोड़ता है वह रावण तत्व का पोषण करता है। रावण अपनी योग्यता का दुरूपयोग करता है। मातृशक्ति का अपमान करता है। 
अच्छाई जहां कहीं भी हो स्वीकार कर लेना अपना लेना । बुराई अपनी जब भी दिखे स्वीकार कर लेना। हम रावण से अपने बचपन, जवानी और बुढ़ापे को बचाएं। 

ज्ञान की अति रावण को बर्बाद कर गई थी। आज नौनिहालों को इंटरनेट की अति से भी बचाने की जरूरत है। 

आज बच्चा पैदा होते ही उस नर्स को घूरने  लगता है जो कान से मोबाइल लगाए हुए है।  नर्स कहती है विस्मय से क्यों रे छुटके क्यों घूर रहा है मुझको।ज़वाब मिलता है ज़रा अपना मोबाइल दीजिए -भगवान्  को एसएमएस करना है मैं ठीक ठाक पहुँच गया।  
सन्दर्भ -सामिग्री :

https://www.youtube.com/watch?v=Js0B_JpEAgQ